भूतों ने नहरगढ़ किले के निर्माण में बाधाएं बनाई | जयपुर में नाहरगढ़ किला

By Shweta Soni

Published on:

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

हेलो दोस्तों, मै श्वेता, आप सभी का स्वागत है आज मै आप सभी को भूतों ने नहरगढ़ किले के निर्माण में बाधाएं बनाई | नाहरगढ़ जयपुर के “गुलाबी शहर” के आसपास के तीन किलों में से एक है। अपनी प्रमुखता के बावजूद, किला हाल के वर्षों तक दुखद रूप से उपेक्षित रहा, जिसके परिणामस्वरूप पर्यटक अक्सर रिज के विपरीत छोर पर प्रतिष्ठित और अच्छी तरह से संरक्षित एम्बर किले के पक्ष में इसे देखते रहे।

व्यापक पुनर्स्थापन कार्यों और कुछ रोमांचक नए आकर्षणों ने किले को पुनर्जीवित कर दिया है, जिससे यह जयपुर के शीर्ष पर्यटन स्थलों में से एक बन गया है । साथ ही, शहर को देखने के लिए इससे बेहतर कोई जगह नहीं है। जयपुर के राजा सवाई जय सिंह द्वितीय ने मराठों के खिलाफ चल रही लड़ाई के बाद अपनी नव स्थापित राजधानी (जिसे उन्होंने 1727 में अंबर किले से स्थानांतरित कर दिया था) की सुरक्षा को मजबूत करने में मदद करने के लिए 1734 में नाहरगढ़ का निर्माण कराया था।

हालाँकि, ऐसा कहा जाता है कि निर्माण में एक मृत राजकुमार, नाहर सिंह भोमिया के भूत के कारण बाधा आ रही थी, जो इस क्षेत्र में रहता था। उन्हें प्रसन्न करने के लिए किले का नाम उनके नाम पर रखा गया। किले के अंदर उन्हें समर्पित एक मंदिर भी बनाया गया था।

सवाई जय सिंह द्वितीय ने किले के अंदर एक शाही खजाना भी स्थापित किया। यह वहां तब तक कार्य करता रहा जब तक कि जयपुर के अंतिम राजा सवाई मान सिंह द्वितीय ने 1940 के दशक में इसे शहर के दक्षिण में मोती डूंगरी (पर्ल हिल) पर अपने छोटे से महल में स्थानांतरित नहीं कर दिया।

परिचय

भारतीय इतिहास और संस्कृति भगवान और भूत-प्रेतों के असली या अज्ञात संसार के बारे में कई रहस्यों से भरे हुए हैं। भारत के विभिन्न भागों में कई किले और पुरातात्विक स्थलों पर भूतों के साये और असलीता से जुड़ी कई कहानियां हैं। राजस्थान के प्रसिद्ध नहरगढ़ किले के बारे में भी एक अनोखी कहानी है, जो इस लेख में हम विस्तार से जानेंगे।

भूतों ने नहरगढ़ किले के निर्माण में बाधाएं बनाई | जयपुर में नाहरगढ़ किला

भूतों ने बनाई बाधाएं

नहरगढ़ किला राजस्थान के अजमेर जिले में स्थित है और यह एक प्रमुख पर्यटन स्थल है जो राजस्थान की सुंदरता और इतिहास को दर्शाता है। इस किले का निर्माण सातवीं सदी में महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय द्वारा किया गया था। नहरगढ़ किले के निर्माण की कहानी आज भी लोगों को हकीकत से ज्यादा रोमांचक लगती है। इस किले के निर्माण के दौरान भूतों ने बाधाएं बनाई जिसके कारण कई समस्याएं उत्पन्न हो गई।

 किले का नाम नाहरगढ़ किला 
 स्थान जयपुर, राजस्थान (भारत)
 निर्माण सन 1734
 निर्माता महाराजा सवाई जय सिंह
 नाहरगढ़ किले की ऊंचाई 700 फीट
भूतों ने नहरगढ़ किले के निर्माण में बाधाएं बनाई | जयपुर में नाहरगढ़ किला

नहरगढ़ किले का निर्माण

नहरगढ़ किले का निर्माण 1734 ईसा पूर्व में शुरू हुआ था और इसका निर्माण लगभग 6 वर्षों तक चलता रहा। इस किले का मुख्य उद्देश्य राजपूतों को मुग़ल शासन से बचाना था और यह राजस्थान के इतिहास में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। नहरगढ़ किले का नाम इसे उस समय के नहरों के आधार पर रखा गया था जो किले के निर्माण में उपयोगी थे।

भूत-प्रेतों के साये

किले के निर्माण के दौरान होने वाली रहस्यमयी घटनाओं की एक कहानी है जो लोगों को अभी भी हैरान कर देती है। कहते हैं कि इस किले के निर्माण के दौरान भूतों ने इसे पूर्ण करने में बाधा डाली थी। नहरगढ़ किले के मुख्य इंजीनियर राजा मनसिंह थे जो इसे पूर्ण करने के लिए संघर्ष कर रहे थे। उन्हें रोज नहरगढ़ किले के निर्माण स्थल पर नए समस्याओं का सामना करना पड़ता था।

नहरगढ़ किले के निर्माण का अद्भुत समाधान

नहरगढ़ किले के निर्माण में होने वाली भूत-प्रेतों के साये से निपटने के लिए राजा मनसिंह ने अद्भुत समाधान निकाला। उन्होंने तंत्रिक विद्या के ज्ञानवान लोगों की मदद से एक पूजा अर्चना का आयोजन किया। भूतों को शांति मिली और किले का निर्माण कार्य पुनः प्रारंभ हो सका। इससे पहले राजा मनसिंह ने विभिन्न जादूटोने का प्रयोग भी किया था, लेकिन वे सभी निष्फल रहे।

नहरगढ़ किले का महत्व

नहरगढ़ किले का निर्माण राजपूत सम्राटों के इतिहास के एक महत्वपूर्ण पड़ाव को दर्शाता है। इसके विशाल भवनों और सजग संरचना को देखकर लोग आश्चर्यचकित हो जाते हैं। इसके प्राचीन स्तंभों और मिनारों में अद्भुत कलात्मकता छिपी हुई है जो इसे एक अनोखे पर्यटन स्थल बनाती है।

भूतों ने नहरगढ़ किले के निर्माण में बाधाएं बनाई | जयपुर में नाहरगढ़ किला

निष्कर्ष

राजस्थान के नहरगढ़ किले का निर्माण भूत-प्रेतों के साये और रहस्यमयी घटनाओं के बीच हुआ था। राजा मनसिंह द्वारा निकाले गए अद्भुत समाधान ने इस समस्या का समाधान किया और किले का निर्माण सम्पन्न हुआ। आज भी नहरगढ़ किले को लोग उत्साह से देखते हैं और इसकी विशालता और शानदारी में खो जाते हैं।

READ MORE :- सुपरस्टार विजय देवरकोंडा नए पैन-इंडिया फिल्म ‘JGM’ में नजर आएंगे | Release Date, Trailer, Songs, Cast

Hello Friend's! My name is Shweta and I have been blogging on chudailkikahani.com for four years. Here I share stories, quotes, song lyrics, CG or Bollywood movies updates and other interesting information. This blog of mine is my world, where I share interesting and romantic stories with you.

Leave a Comment